Home Party Updates BJP हुड़दंगई से बताया कि गुंडई बढ़ गयी है, गवर्नर पर फेंके कागज...

हुड़दंगई से बताया कि गुंडई बढ़ गयी है, गवर्नर पर फेंके कागज के गोले, बजाई सीटियाँ!

139

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधान सभा की कार्यवाही सत्र के पहले दिन ही विपक्ष के हंगामे के बाद कल तक के लिए स्थगित कर दी गई है.उत्तर प्रदेश विधान सभा का पहला सत्र शुरू होते ही विपक्ष ने हंगामा कर दिया. राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान विपक्षी विधायकों ने राज्य में कानून व्यवस्था के मुद्दे पर हंगामा करते हुए राज्यपाल पर कागज फेंके. विपक्षी विधायक सदन में प्लेकार्ड लेकर आए थे. राष्ट्रगान के खत्म होते ही सपा और बसपा नेता गवर्नर राम नाइक पर कागज के गोले फेंकने लगे। हंगामे के बीच ही गवर्नर अपना अभिभाषण पढ़ते रहे और अपोज‍िशन के नेता हाथों में बैनर-पोस्टर लेकर हंगामा करते रहे। इसके बाद नाराज नाइक ने कहा, ”पूरा यूपी देख रहा है कि विपक्ष क्या कर रहा है। व‍िधायकों का सदन में ये व्यवहार सही नहीं है।” बता दें ये 17वां व‍िधानसभा सेशन 22 मई तक चलेगा। अपोज‍िशन लॉ एंड ऑर्डर के मुद्दे पर योगी सरकार को घेर रहा है।

हंगामे के बीच राज्यपाल ने पूरा किया संबोधन
राज्यपाल राम नाइक ने हंगामे और नारेबाजी के दौरान ही अपना संबोधन पूरा किया. विपक्ष के हंगामे पर यूपी कैबिनेट के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि हम आशा करते हैं कि विपक्ष अपनी सकारात्मक भूमिका निभाएगा. सिद्धार्थ नाथ ने कहा कि कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्ष को आत्मनिरीक्षण करना चाहिए.

– अपोजिशन का हंगामा करीब 34 मिनट चला। बीएसपी-सपा नेताओं ने यूपी में लॉ एंड ऑर्डर के मुद्दे पर प्रोटेस्ट किया। इस दौरान वे सरकार विरोधी नारे लगाते रहे। किसानों की कर्ज माफी, गुंडाराज से मुक्ति लिखे बैनर गवर्नर को दिखाए गए।

– कांग्रेस की नेता आराधना मिश्रा ने लो वोल्टेज बिजली, बिजली कटौती से निजात दिलाओ और महिलाओं की सुरक्षा दिलाने के पोस्टर दिखाए।
– अपोजिशन के नेता हाथों में बैनर-पोस्टर लेकर हंगामा करते रहे। साथ ही सीटी बजाते रहे।

कानून-व्यवस्था पर आत्मनिरीक्षण करे विपक्ष
सिद्धार्थ नाथ सिंह ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि सपा सरकार खुद राज्य की कानून-व्यवस्था बेहतर नहीं कर पाई और हमसे 50 दिनों की रिपोर्ट मांगी जा रही है.

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की हुकूमत कायम होने के बाद सोमवार 15 मई से पहले विधानसभा सत्र की शुरुआत हुई है. 17वीं विधानसभा के गठन के बाद विधानमंडल का आज पहला सत्र है. विधानसभा अध्यक्ष की अगुआई में कार्य मंत्रणा समिति की बैठक में 15 से 22 मई तक के कार्यक्रम की मंजूरी दी गई है. इस बीच सदन की छह बैठकें होंगी.

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि सपा सरकार खुद राज्य की कानून-व्यवस्था बेहतर नहीं कर पाई और हमसे 50 दिनों की रिपोर्ट मांगी जा रही है.